Saturday, August 21, 2010

चांदनी खिलखिलाई


पूनम का चांद निकला आसमान में
चांदनी फिसली पत्‍तों से जमीन पर
नदी में प्रतिबिम्‍ब नजर आया उनका
रातरानी पर मंडराते भंवर
कली शरमाई फूल बनने को तत्‍पर
दूधिया रोशनी में हवा सरसराई
ऐसा लगा मानो चांदनी ही खिलखिलाई
0 नीमा

16 comments:

  1. नीमा भाभी जी, हमरे लिए तो फैसला करना मोस्किल हो रहा है कि ई कबिता है कि पेंटिंग... आपने एकदम चित्र खींच दिया है... अऊर जबतक हम चित्र के सौंदर्य में खोए हुए थे के कि अचानक हवा का झोंका आ गया, चाँदनी का खिलखिलाहट बनकर... ई तो सुपाठ्य भी है और द्रश्य भी है और हाँ श्रव्य तो हम भुलाइये गए... बहुत सुंदर..

    ReplyDelete
  2. ब्लाग जगत में आप का स्वागत है। कविताएँ अच्छी हैं।

    ReplyDelete
  3. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  4. हिन्दी ब्लॉगजगत में स्वागत है।
    सुन्दर कविता है। आपके अनुभव का लाभ भी मिलेगा।

    ReplyDelete
  5. Nirmala ji ,aapki niboliya nahi hai ,ye to rasgulley hai.Chaliye ,der se hi sahi aapne shuruaat kar hi di blogjagat mey ,swagat hai aapka .Sunder blog banaya hai aapney ,sahyog to sabhi ka hai aap key saath.Yaha guru ji bahut milenge,bahut apanattva bhari hai ye duniya .
    sader,
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. सुन्दर कविता है।

    ReplyDelete
  7. भाभी जी! रक्षा बंधन का हार्दिक सुभकामना!!

    ReplyDelete
  8. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
    हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।
    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  9. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  10. आपकी खिलखिलाती चांदनी की ठंडक बडी सुखावह है ।

    ReplyDelete

  11. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई
    ब्लाग जगत में आपका स्वागत है
    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete

आप यहां आए शुक्रिया। क्षमा करें,मैं अभी कम्‍प्‍यूटर से बहुत अधिक परिचित नहीं हूं। मैं प्रयत्‍न करूंगी कि आपके ब्‍लाग पर आऊं। पर हो सकता है अभी अपनी टिप्‍पणी दर्ज न कर पाऊं। आप अपनी चुनी हुई निबोलियों के लिए कुछ शब्‍द यहां दर्ज करते जाएं...